साला अजीब confusion है

साला अजीब confusion है
.
दारू बनाने वाला कर्ज में है
.
दारू बनाने के लिए कर्ज देने वाले बैंक क़र्ज़ में हैं
.
और दारू पीने वाले भी कर्ज में है
.
.
तो पैसा गया कहाँ?
   